जिरबखतर की मजबूती-Akbar Birbal Hindi Success Story

जिरबखतर की मजबूती-Akbar Birbal Hindi Success Story

बादशाह अकबर को अपनी फोज के लिए कुछ जिरबखतर की आव्श्क्यता थी| उन्होने इसके कारीगर को बुलवाया और पहले एक जिरहबख्तर बनाने का आदेश दिया ताकि उसकी मजबूती को परखा जा सके|

जिरबखतर की मजबूती-Akabar Birbal Hindi Success Story

Is Ko Bhi Padhe :- Goals Setting Kaise Kare – Puri Jankari Hindi Me !

कुछ डीनो बाद कारीगर बख्तर बनाकर ले आया| अकबर ने बख्तर एक पुतले को पहनाया और अपनी तलवार से उसे पर वार किया| वार करते ही बख्तर फट गया| यह देखकर अकबर क्रोधित हो गए और अपना सारा क्रोध उसे कारीगर पर उतरते हुई बोले- इतने कमजोर बख्तर बनाते हो तुम, जाओ दूसरा बख्तर बनाकर लाओ और यदि वह भी ऐसा निकाला तो तुम्हारी खेर नहीं|

Most Popular :- Success Kaise Paye – Hindi me Puri Jankari !

कारीगर लॉट आया किन्तु बादशाह के हुक्म के कारण वह परेशान हो उठा| उसे लगा की अब उसकी जान बचना मुसकिल है| काफी सोच-विचार के बाद उसने बीरबल से सलाह लेने का विचार किया और सारी बीरबल को बता दी|

Most Read :- Low of Attraction in Hindi – Puri jankari

बीरबल ने कहा की तुम चिंता मत करो, बादशाह के हुक्म का पालन करो और दूसरा बख्तर बनाकर लाओ और जब बादशाह उसे किसी पुतले को पहनकर परखने लगे तो तुम कहना की इसकी परख तुम्हारे ऊपर ही होगी| बख्तर तो तुम स्वय पहन लेना, डरना बिलकुल ही नहीं और जब बादशाह सवय या कोई सिपाही तुम पर वार करने लगे तो इतनी ज़ोर से चिलन्ना की वार करने वाला वार ही न कर पाये और जब बादशाह चिल्लानेका कारण पूछे तोह कहना की इस बख्तर को पहनने के बाद कोई भी मानव साधारण नहीं रह जाता | उसमे इतनी शक्ति आ जाती है की कोई उसे पर वार कर ही नहीं सकता| बीरबल ने कारीगर को बड़ी अछि तरह समजाया|

Is Ko Padhe :- Chuniye Apna Best Profession !

बीरबल के कहने पर कारीगर ने दूसरा बख्तर बनाया और उसे लेकर दरबार मे पेस हो गया| बादशाह अकबर जब उस बख्तर को परखने के लिए पुतले पर चड़ने लगे तो कारीगर ने उसे सवय पहनेको कहा | कारीगर ने बख्तर पहन लिया| अकबर के आदेश पर एक सिपाही उसे पर हमला करने जैसे ही आगे बढ़ा, कारीगर इतना ज़ोर से चिल्लाया की सिपाही दर कर वही रुक गया|

Most Read :- Possitive Atitude Ke Fayde !

जब बादशाह अकबर ने इसका कारण पूसा तो कारीगर ने बीरबल द्वारा बताया गया कारण बता दिया|

बादशा अकबर समाज गई की इस उक्ति के पीछे किसका दिमाग काम कर रहा है| वह बीरबल की और देखकर मुस्करा दी आ |

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *