रणवीर सिंह : डायलाग | Ranvir Singh Dialogue In Hindi

Ranvir Singh Dailogue In Gunde
अगर जिगर की जगह जिगर है और जिगर में दम  है … तो रोक ले आके
Ranvir Singh Dailogue In Gunde
हम तो फलक के तारे थे … ज़मीन पे आए तो पहचान पाई, मज़हब पाया, रंग पाया, ज़ुबान पाई … हम निकले थे जन्नत ढूँदने … पर हर मोढ़ पे, हर मकाम ., . . और सरहद पाई … पर अपने तेवर का सिक्का एक दिन चलेगा ज़रूर … खून उबाल मरेगा ज़माना बदलेगा ज़रूर … खुद को बुलंद करेंगे … रब के बँधे है हम … गुंडे थे, गुंडे है, गुंडे रहेंगे हम बाजीराव ने मस्तानी से मोहब्बत की है … अय्याशी  नही

Ranvir Singh Dailogue In Gunde
हम गुंडे है … ना आज तक किसी के हाथ आए है … और ना आएँगे
Ranvir Singh Dailogue In Bajirav mastani
चीते  की चाल, बाज़ की नज़र और बाजीराव की तलवार पर संदेह नही करते … कभी भी मात  दे सकती है
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila 
मेरी मर्दानगी के बारे में आप गाओं की किसी भी लड़की से पूच सकते हो … रिपोर्ट अच्छी मिलेगी
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila
नामे तो कमाल छे … पर सरनेम बवाल छे
Ranvir Singh Dailogue In Bajirav mastani
हमारे दिल एक साथ धड़कते है … और एक साथ रुकते भी है
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila 
हीरो बनने के लिए जिगर की ज़रूरत पड़ती है … और जब जिगर हो तो भारी बंदूक का क्या काम?
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila 
जीओंगा तो तेरे साथ … मारूँगा तो तेरे हाथ
अभी तोड़ू Tension , पची ताने फुल Ataintion
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila 
साला मौत का धनदा करते करते ज़िंदगी की कीमत भूल गये है हम लोग
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila 
Knife पे गिरा Apple , Apple  पे गिरे Knife … चिंता मेरी आइसे कर रही है, जैसे मेरी वाइफ
Ranvir Singh Dailogue In Goliyon ki Raslila Ram-Lila 
अपनी साँस वापस लेने आया हूँ … अटक के रह गयी है तेरे पास

Ranvir Singh Dailogue In Gunde
हम गुंडे है … एक बार जिसके साथ जी लिए … मरते भी उससी के साथ है

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *