चालक लोमड़ी : Clever Fox | Moral Story In Hindi

हेलो , दोस्तों , आप सबका Help हिंदी में आपका स्वागत है | आज की कहानी काफी ही शिक्षाप्रद है – चालक लोमड़ी

एक बार की बात है , एक कौवा था जो बहुत भूखा था | भोजन प्राप्त करने के लिए वह इधर – उधर घूम रहा था | कि अचानक उसे रोटी दिखाई पड़ी , कौवे ने रोटी उठाई और एक पेड़ की शाखा के ऊपर बैठ गया | और रोटी खाने के लिए विचार करने लगा | तब एक लोमड़ी ने कौवे और रोटी को देखा | रोटी को देखते है लोमड़ी रोटी को पाने की सोचने लगा | लोमड़ी उस पेड के नीचे बैठ गया जिसके ऊपर कौवा बैठा था |

लोमड़ी ने कौए से कहा – अरे प्यारे कौवे ! तुम बहुत सुंदर हो , तुम्हारा शरीर अति मनोहरी है | तुम्हारे पंख मन को हरने वाले हैं | तुम्हारी आवाज बहुत ही मीठी है | तुम्हारी आवाज सुनकर मेरे कान तृप्त हो जाते हैं ,मन आनंदमय हो जाता है |

अपनी प्रशंसा सुनकर कौवा बहुत ही खुश हो गया | और अपनी और अधिक प्रशंसा सुनने के चक्कर में उसने सोचा क्यों न मै फिर से लोमड़ी को अपना मधुर गीत सुनाऊ | तब उसने जैसे ही कांव – कांव की आवाज करना आरम्भ किया , वैसे ही उसके चोंच की रोटी जमीन पर गिर गयी , लोमड़ी की तरकीब काम आ गयी | जैसे ही रोटी जमीन पर गिरी लोमड़ी ने रोटी उठाई और भाग गया |

आशा है आपको चालक लोमड़ी कहानी पसंद आएगी , और आपको एक सीख मिली होगी कि हमें कभी भी झूठी प्रशंसा नहीं सुननी चाहिए |न कभी भी झूठी प्रशंसा सुने और न कभी किसी की झूठी प्रशंसा करे |

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *