Rich Dad Poor Dad in hindi By Robert Kiyosaki :अमीर कैसे बने

Robert Keyosaki ने अपनी book Rich Dad Poor Dad में यह बताया है कि कोई आदमी गरीब नही होता ,उसकी मानसिकता ही उसे गरीब बनाती है और उसकी मानसिकता ही उसे ऊँचा उठाती है ,अमीर बनाती है |

Related-rich dad poor dad in hindi,amir kaise bane,how to become rich in hindi,amir banane ke tips

                            rich-dad-poor-dad-in-hindi

आज मै आपको Reason बताने वाला हूँ कि क्यों कुछ ही लोग बहुत अमीर बन जाते हैं और क्यों बहुत लोग MIddle Class या Poor बन जाते है

Robert नाम का एक लड़का था , उसके दो बाप थे , यह काफी intersting है कि Robert केदो बाप कैसे थे – पहला उसका खुद का बाप था , दूसरा उसके friend का बाप था जिसे वह अपना मुहबोला बाप समझता था |पहले वाले ने PHD की थी ,जबकि दुसरे वाले ने 8th क्लास भी पास नही की थी |दोनों ही काफी Hardworking थे ,लेकिन उनकी सोच काफी अलग थी , दोनों हो Robert को अलग –अलग बात सिखाते थे |

 

पहला बाप (PHD) बोलता था – पैसा सारे फसाद की जड़ है |जबकि दूसरा बाप बोलता था –पैसा न होना सारे फसाद की जड़ है |

पहला बाप Robert को महंगी चीजे लेने से मना करता था ,और बोलता था कि – ये सब चीजे हमारी हैसियत के बाहर है |जबकि दूसरा बाप कहता था कि वो महंगी वस्तुओ के बारे में सोचे और अलग –अलग रास्ते ढूंढे,जिससे की वो सारी चीजे खरीद सके |इससे उसका दिमाग तेज होगा और नए नए Ideas भी मिलेंगे |

पहला बाप कहता कि – खूब पढाई कर जिससे वह बड़ी बड़ी कम्पनियों में Job पा सके |दूसरा बाप बोलता था तू खूब पढ़ मेहनत कर और अपनी कम्पनी खोल जिससे तू खूब सारी नौकरियां लोगो को de पाए |

Robert ने अपने दोनों Dad’s को बढ़ते और दोनों की तरक्की देखी और अपने दुसरे बाप की बात मानी और follow भी की और Florida का सबसे अमीर आदमी बना |

चलिए जानते हैं , ऐसी क्या चीज ,कौन सी चीज Robert ने अपने दुसरे Dad से सीखी |

                                                        Finance Literacy

Assets- Assets कोई भी वह चीज होती है ,जो आपको पैसे बनाकर दे |जबकि

Liabilitiy- Liabality ऐसी चीजे होती हैं जो आपसे पैसे ले ,या आपके paise ख़त्म करे |

अमीर लोग इसलिए अमीर होते हैं क्योंकि वे अपने Assets बनाते हैं ,जबकि middle क्लास के लोग Liabilities पर खर्च करते हैं |

इन सबको अच्छे से समझाने के लिए मैंने example तैयार किया हुआ है –

                     rich-dad-poor-dad-in-hindi

रोहन और सोहन दो दोस्त थे ,जो same सैलरी पर same post पर काम करते थे |सोहन अपनी salary से bike, car ,महंगे Mobile , महंगी Dresses खरीदता था ,जो उसे अमीर Feel करतीं थी पर वो ये नही समझता था की ये सब चीजे Liabilities है ,जो उससे पैसे ले रही है | न केवल खरीदते समय बल्कि बाद में भी उसे use करने के लिए भी paise की जरुरत पड़ेगी Maintinance वगेरह के लिए |जिसकी value वक़्त के साथ कम हो जाएगी ,और न ही वह आगे इससे profit कमा पायेगा |लेकिन सोहन बहुत ही समझदार था ,वह केवल ऐसी ही चीजे खरीदता था जिससे वह assets बना सके जैसे –Bonds ,Stocks,Royal Estate | 2 साल के बाद रोहन करोडपति बन गया जबकि सोहन अपनी नौकरी को ही कोसता रहा ,और यह कहता था कि कम salary ही उसके इस condition की जिम्मेदार है |

Must Read-

महाशय धरमपाल हट्टी : तांगे वाले से अरबपति तक | Biography of Mahashay Dharampal Hatti in Hindi

 

लेकिन आप जानते हैं कि –अगर सोहन ने भी अपनी income से assets बनाये होते तो वह आज करोडपति होता |

नीचे चार्ट में मैंने बताया है कि –

                                   rich-dad-poor-dad-in-hindi

गरीब आदमी पैसा कमाता है और वह उसे अपने जरुरी खर्चो में खर्च कर देता है |

Middle Class आदमी – Middle Class आदमी को paise मिलते है जिसे वह जरुरी खर्चो और Liabilities में खर्च कर देता हैं|

जबकि अमीर आदमी को जो paise हैं उससे वह पहले Assets बनाता है और फिर Assets से मिलने वाले पैसो को खर्च करता है |इसलिए वे अमीर होते जाते है क्योंकि उनके income के source बढ़ते जाते हैं|

जैसे आपको आपकी income मिली आपने उस income के 50% से अपना घर चलायाऔर बाकी बचे 50% से छोटा आपने एकं छोटा सा ढाबा खुलवा दिया , अब आप सोच रहे होंगे ढाबा चलेगा की नही चलेगा , तो मै कहूँगा offcourse चलेगा क्योंकि india में जनसँख्या ज्यादा है तो खाने पीने वाले ज्यादा है ,बस केवल तीन condition हैं जिन्हें मानने के बाद आपका ढाबा दौड़ने लगेगा

पहली बात वह ऐसी जगह हो जहाँ लोग रुकते हो या जहाँ भीड़ भाड़ वाला इलाका हो |

दूसरी बात आपके खाने की क्वालिटी अच्छी हो,जो लोगो को अच्छी लगे |

तीसरी और लास्ट बात आप एकदम अमीर बनने के चक्कर में price ज्यादा न रखे जो लोग आसानी से de सके |

याद रहे आपका व्यवहार भी लोग देखते हैं कि आप कस्टमर को kaise deal करते हैं |व्यवहार हंसमुख ही रखे |

अगर आपको अमीर बनना है तो आप इस चीज को नोट कर ले कि –

इस बात का फ़र्क नही पड़ता की आप कितना कमाते हैं लेकिन इस बात का फ़र्क पड़ता है कि आप उसे कैसे और कहाँ खर्च करते हैं |

लोग यह भी कहते आपको मिल जायेंगे कि – उनकी ख़राब condition का कारण उनकी कम salary है , लेकिन salary बढ़ने के साथ लोगो के खर्चे भी बढ़ जाते हैं |क्योंकि ज्यादा paise ज्यादा महंगी चीजे खरीदने पर मजबूर करता है |

यह जो बाते मैंने आज आपसे share की है वह मैंने Robert Kiyosaki की book Rich Dad Poor Dad की help से लिखी है |मै आगे ऐसे ही बहुत सी अच्छी बाते आपसे share करूँगा |

7 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *